This Blog about to Book review and free pdf download on one click

8/12/2021

1000 Baat Ki 1 Baat - Books Review And Free Pdf Download

 

यह पुस्तक आपको जीवन में आगे बढ़ने में सहायक सिद्ध हो, ऐसी मेरी आशा है। सुखद भविष्य के लिए हार्दिक शुभकामनाएं 

पुस्तक के कुछ अंश & पुस्तक की पीडीऍफ़ फाइल सबसे निचे दी गयी है जिसे आप डाउनलोड कर सकते है 





मुझे बताओगे तो मैं भूल जाऊंगा। मुझे दिखाओगे, तो मुझे याद रहेगा मुझे शामिल कर लोगे तो मैं सीख लूंगा।

लोहे की छड़ जमीन पर यूं ही पडी रहे, तो वह सुई में तब्दील हो जाती है।
 
हम हमेशा यह नहीं कह सकते कि हर गलती किसी बेवकूफी का परिणाम है।
 
यदि आप असफल हो रहे हैं, तो यकीन मानिए कुदरत आपको बड़ी सफलता अर्जित करवाना चाहती है।
यदि कोई बेटा शिक्षित नहीं है, तो इसके लिए उसके पिता को ही दोष दिया जा सकता है।
जो घर में रहता है, वह बेहतर जानता है कि छत कहां से टपकती है।
जो अपने दुश्मनों के साथ सहमत नहीं होता, वह उनके द्वारा नियंत्रित होता है।
वह नांव, जो किनारे पर बांधी नहीं जाती, वह लहरों के साथ बह जाती है।
जब तक नदी को पार ना कर लो, तब तक मगरमच्छ को अपमानित ना करो।
 
आप जहां पर भी हैं वहीं से शुरुआत कीजिए। आपके पास जो भी उपलब्ध है उसका उपयोग कीजिए। जो कुछ भी आप कर सकते हैं वह कीजिए।
ठंडी चाय और ठंडे चावल बर्दाश्त किए जा सकते हैं लेकिन रूखा और ठंडा व्यवहार तथा कड़वे शब्द बर्दाश्त नहीं किये जाते।
ईश्वर से प्रार्थना अवश्य कीजिए लेकिन पतवार चलाना ना छोड़िए।

यदि आप खुद को भरना चाहते हैं तो सबसे पहले खुद को खाली कीजिए।

उपयुक्त लोगों के साथ गहरी बातचीत अनमोल है।

यदि आप अपने दिमाग पर नियंत्रण नहीं करोगे तो कोई दूसरा करेगा।

जिंदगी में जब भी आप सभी चीजों की जिम्मेदारी ले लेते हैं. उसी वक्त आप में यह ताकत आ जाती है कि आप जिंदगी को बदल सकते हैं।

 

जीवन की सबसे बड़ी विडंबना यह है कि हम बहुत जल्दी बूढ़े हो जाते हैं और बहुत देरी रो समझदार होते हैं।



जब कोई भला व्यक्ति अपना धैर्य खो देता है तो शैतान की रूह भी कांप जाती है।


आने वाला कल उन्हीं का है, जो दूर दृष्टि रखते हैं।


अगर आप खुद पर विजय पाने में कामयाब हो जाते हैं तो आप दुनिया पर भी विजय पा सकते हैं।


एक बुद्धिमान व्यक्ति उससे कहीं अधिक अवसर निर्मित कर लेता है, जितने अवसर उसे मिलते हैं।


थोड़ी सी जल्दबाजी भी पूरी योजना का सत्यानाश कर सकती है।।


सिर्फ बोलने से ही चावल नहीं पकते।

 

जो आदमी जिंदगी में छोटे झटके बर्दाश्त नहीं कर सकता, वह बड़ी सफलताएं अर्जित नहीं कर सकता।


धीरे चलने से घबराने की जरूरत नहीं है। घबराने की जरूरत है, यदि आप एक ही स्थान पर खड़े रहते हैं तो।


एक ऐसा हीरा जिसमें दाग हैं, उस पत्थर से बेहतर है जो बिल्कुल साफ है।


अंधेरे को कोसने से बेहतर है कि मोमबत्ती जला ली जाए।


एक इंसान उस वक्त सबसे अधिक थका हुआ महसूस करता है, जब वह एक ही स्थान पर खड़ा रहता है और तरक्की नहीं करता।


आपको एक कुआं खोद लेना चाहिए इससे पहले कि आप को प्यास लगे।


आप सब को खुश नहीं कर सकते और अगर आप ऐसी कोई कोशिश कर रहे हैं तो आप की हार निश्चित है।


आप की सफलताएं उपलब्धियां कोई मायने नहीं रखती क्योंकि जब आप मत्य शैया पर होते हैं तो उस वक्त आप अपनी सुनहरी यादें ही मायने रखती हैं।

 

 पीडीऍफ़ डाउनलोड - 1000 Baat Ki 1 Baat

No comments:

Post a Comment